Wednesday, May 12, 2021
Home उत्तर प्रदेश सोशल मीडिया द्यारा एक कवि सम्मिलनी का हुआ आयोजन

सोशल मीडिया द्यारा एक कवि सम्मिलनी का हुआ आयोजन

रिपोर्ट- लवकुश आर्या

खबर लाइव इंडिया। आत्महत्या की समस्या दिन-पर-दिन विकराल होती जा रही है. इधर तीन-चार दशकों में ₹ विज्ञान की प्रगति के साथ जहां बीमारियों से होने वाली मृत्यु संख्या में कमी हुई है तो वहीं इस वैज्ञानिक प्रगति एवं तथा कथित विकास के बीच आत्महत्याओं की संख्या पहले से अधिक हो गई है. यह समाज के हर एक व्यक्ति के लिए चिंता का विषय है.

भारत देश में आत्महत्या के प्रमुख कारणों में बेरोगजारी, भयानक बीमारी का होना, पारिवारिक कलह, दांपत्य जीवन में संघर्ष, गरीबी, मानसिक विकार, परीक्षा में असफलता, प्रेम में असफलता, आर्थिक विवाद, राजनैतिक परिस्थितियां होती हैं. स्त्रियों की अपेक्षा पुरुष अधिक आत्महत्या करते हैं. आत्महत्या की बढ़ती घटनाओं पर नियंत्रण पाने के लिये विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस प्रतिवर्ष 10 सितंबर को मनाया जाता है. जिसे विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के सहयोग से अंतर्राष्ट्रीय एसोसिएशन फॉर आत्महत्या रोकथाम (इंटरनेशनल एसोसिएशन फॉर सुसाइड प्रवेंशन-आईएएसपी) द्वारा आयोजित किया जाता है.Khabar Live India News

पुलिस के इंटेलिजेंस ब्रांच में कार्यरत हमारे प्रिय बड़े भाई चन्द्रकान्त बिस्वाल जी के साथ संवाददाता लवकुश आर्या के कठिन प्रयाशों से मो लेखा मो दुनिया ग्रुप के परिचालक खुशि राम साहू, सोनाली राउत राय एवं नीति शिक्षा परिवार ग्रुप के परिचालक दुर्गाशंकर दे, पद्मलोचन साहू के मिलित उद्यम से सोशल मीडिया द्यारा एक कवि सम्मिलनी आयोजित किया गया. जिसमें दो सौ कवियों ने ऑनलाइन प्रतिभाग में शामिल हुए.

प्रसंग आत्महत्या के ऊपर कविता प्रस्तुत किया गया. जज भारती रथ मैडम द्यारा उन कविताओं के शीर्ष दस कविता के कवियो के नाम इस प्रकार है. अनुसया मल्लिक, रीता अपराजिता महन्ती, वीरकिशोर सतपथी, शिवशंकर साहू, सुमंत बेहेरा, सविता शुक्ला, प्रशांत सेठी, मनस्विनी मिश्र, ज्योतिशंकर त्रिपाठी को ग्रुप परिचालक द्यारा मानपत्र प्रदान किया गया.

KhabarLiveIndia
i am Khabarliveindia-njriya sach dikhane ka news portal chanel.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments