रिपोर्ट- रवीन्द्र त्रिपाठी

फतेहपुर। शनिवार की शाम तेज आंधी,बारिश में यमुना नदी में नाव समा गयी थी. लाकडाउन का पालन कराने निकले दारोगा, सिपाही व नाविक नाव में सवार थे जो डूब गये. जिनकी खोजबीन के लिये पीएसी व एनडीआरएफ के गोताखोरों को बुलाया गया. रविवार की सुबह टीम ने रेस्क्यू शुरू कर करीब 14 घंटे में तीनों के शव बरामद कर लिये इनके परिजन भी मौके पर पहुंचे.

Khabar Live India News
Divers of NDRF and PAC recovered corpses of constable, soldier and sailor

जनपद के किशनपुर थाना क्षेत्र में शनिवार शाम हुई एक नाव हादसे में उपनिरीक्षक और एक सिपाही समेत तीन लोग यमुना नदी के गहरे पानी मे डूब गए थे. क्षेत्र के मड़ैयन घाट पर यह नाव दुर्धटना उस समय हुई जब उपनिरीक्षक रामजीत अपने हमराही सिपाही शशिकांत के साथ यमुना नदी में नाव से लॉकडाउन की निगरानी कर रहे थे. लॉकडाउन में जनपद की सभी सीमाये सील कर दी गयी है। इसके बावजूद बांदा जिले से तमाम लोग यमुना नदी के रास्ते नाव से फतेहपुर जिले में आया जाया करते हैं. किशनपुर थाने में तैनात उपनिरीक्षक रामजीत अपने हमराही सिपाही के साथ नाव से इस पार आने वालों पर नजर बनाए हुए थे. इसी बीच उनकी नाव आंधी, बारिश के चलते यमुना नदी के गहरे पानी मे डूब गई.जिले के आलाअधिकारी मौके पर पहुंचे देर रात तक रेस्क्यू जारी रहा कोई सफलता न मिलने पर पीएससी व एनडीआरएफ के गोताखोरों को बुलाया गया। रविवार की सुबह करीब चार बजे टीम ने रेस्क्यू शुरू किया और तीनों शवों को नदी से बरामद कर लिया. डूबे लोगों की तलाश के लिए स्थानीय गोताखोरों को भी लगाया गया. मामले में जिले के आलाधिकारी नजर रखे है. नदी में डूबे उपनिरीक्षक रामजीत भारती जौनपुर जिले के मछलीशहर के रहने वाले हैं जबकि उनका हमराही सिपाही शशिकांत गाजीपुर जिले के खजुहा गांव के निवासी हैं. उपनिरीक्षक रामजीत का तबादला को सात महीने पहले फतेहपुर जनपद में हुआ था. जनपद के आमद कराने के बाद उनकी तैनाती किशनपुर थाने में की गई. पुलिस अधीक्षक प्रशांत वर्मा का कहना है कि नदी में डूबे उपनिरीक्षक रामजीत भारती और कांस्टेबलू शशिकांत और नाविक रवि की तलाश के लिए पीएसी और स्थानीय गोताखोरों को लगाया गया. एनडीआरएफ की टीम भी मौके पर बुलाई गई. सीओ अंशुमान तिवारी ने बताया नदी में डूबे तीनों के शव बरामद कर लिये. नाविक रवि बिहार का रहने वाला है वह मछली ठेकेदार के यहां काम करता था. लापता सिपाही शशिकांत की लगभग छह माह पहले शादी हुई थी। परिजनों का रो- रोकर बुरा हाल है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here