रिपोर्ट- रवीन्द्र त्रिपाठी
मध्य प्रदेश। उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में जहरीली शराब से हुई 17 मौतों पर आंसू अभी ठहरे भी नहीं, कि मध्य प्रदेश के मुरैना में सोमवार की रात 12 और लोगों की मौत हो गई. जबकि, आठ गंभीर रूप से बीमार हो गए हैं. अवैध जहरीली शराब का काला साम्राज्य पूरे देश में जड़ें जमा चुका है. पिछले दो दशक में जहरीली शराब पीने से हजारों लोगों की जान जा चुकी है. मुरैना के पुलिस अधीक्षक अनुराग सुजानिया ने मंगलवार को मीडिया को हादसे के बारे में जानकारी दी. उन्होंने बताया कि घटना मुरैना से करीब 14 किलोमीटर दूर मानपुर और पहावाली गांव में हुई. उन्होंने पुष्टि की, कि अवैध जहरीली शराब पीने से इन दोनों गांवों के 12 लोगों की जान चली गई जबकि करीब 10 अन्य गंभीर रूप से बीमार हैं. पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है और जांच कर रही है. बीमार लोगों को इलाज के लिए ग्वालियर के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है, हालांकि सभी की हालत गंभीर बनी हुई है. प्रारम्भिक जानकारी के मुताबिक, सोमवार रात को ग्रामीणों ने शराब पी थी. इसके बाद उनकी हालत बिगड़ गयी और अब तक 12 लोगों की मौत हो चुकी है. सभी मृतकों का मुरैना के जिला अस्पताल में पोस्टमार्टम कराया जा रहा है. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत की वजहों का पता चल सकेगा. पुलिस अधिकारी ने बताया कि ग्वालियर के अस्पताल में भर्ती लोगों का बयान लेने पुलिस मौके पर पहुंच गई है. उनके बयान के बाद ही साफ हो पायेगा कि गांव में संदिग्ध जहरीली शराब कहां से आई थी. फिलहाल पुलिस गांव दूसरे लोगों से पूछताछ कर सुराग जुटा रही है. राज्य सरकार ने कहा है कि मामले में जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जायेगी. उनकी पहुंच उनके अपराधों से मुक्ति नहीं दिला सकती. मुरैना शराब कांड पर कार्रवाई करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मुरैना टीआई, जिला आबकारी अधिकारी और संबंधित थाना प्रभारी को सस्पेंड कर दिया है. राज्य सरकार ने जांच के लिए एक टीम का गठन किया है. यह टीम हादसे वाले गांव में जाकर मौके का निरीक्षण करेगी और अपनी रिपोर्ट मुख्यमंत्री को सौंपेगी.
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान :
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मीडिया को जानकारी देते हुए कहा, “मुरैना की बहुत दुर्भाग्यपूर्ण और दुखदायी घटना है. मामले की जांच जारी है, लेकिन प्रथम दृष्टया सुपर विजन में लापरवाही करने पर डिस्ट्रिक्ट एक्साइज अफसर को सस्पेंड किया गया है. जांच के बाकी तथ्य जैसे ही आएंगे, जो भी दोषी होंगे, वो भी बख्शे नहीं जाएंगे. हम कठोर कार्रवाई करेंगे. “ प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी मुरैना जहरीली शराब कांड पर शोक जताया. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने कार्रवाई करते हुए संबंधित थाना प्रभारी को निलंबित कर दिया गया है. सरकार जांच के लिए एक दल अलग से भेज रही है. घटना के लिए जिम्मेदार किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here